January 25, 2021

विशेष अभियान चलाकर बनाए जा रहे आयुष्मान गोल्डन कार्ड

मुख्य बातें

  • जिन लाभार्थी परिवारों के किसी भी सदस्य का नहीं बना है कार्ड उनके लिए चल रहा अभियान
  • प्रत्येक ब्लॉक से सबसे अधिक लाभार्थियों वाले पाँच-पाँच गाँव चयनित
  • अभियान के अंतर्गत अब तक बने 3,000 से अधिक कार्ड

झाँसी : प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना (आयुष्मान भारत) केंद्र सरकार की एक महत्वाकांक्षी योजना है, जिसमें पात्र लाभार्थी परिवार को पांच लाख रुपये तक के निशुल्क उपचार की सुविधा मिलती है।

केंद्र सरकार का लक्ष्य है कि प्रत्येक लाभार्थी परिवार में आयुष्मान भारत का गोल्डन कार्ड पहुंचे। इसके लिए 31 दिसंबर तक विशेष अभियान चलाया जा रहा है।

15 दिसंबर से शुरू हुये अभियान में 3358 गोल्डन कार्ड बनाये जा चुके हैं। मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ जी के निगम ने बताया कि अभियान अपर मुख्य सचिव के निर्देश पर चलाया जा रहा है।

योजना के नोडल अधिकारी डॉ॰ महेंद्र कुमार ने बताया कि विशेष अभियान के अंतर्गत उन लाभार्थी परिवारों को चिन्हित किया गया है जिनमें किसी भी सदस्य का कार्ड नहीं बना है। इस आधार पर जनपद के प्रत्यके ब्लॉक के 5-5 गाँव सबसे अधिक लाभार्थी की संख्या वाले चुने गए है।

जिलाधिकारी के स्तर पर भी इसकी समीक्षा की जा रही है। चिन्हित जगहों पर शिविर लगाकर कार्ड बनाए जा रहे है। लाभार्थियों को भी चाहिए कि वह स्वयं नजदीकी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र या कॉमन सर्विस सेंटर में जाकर गोल्डन कार्ड बनवा लें, जिससे कि जरूरत पड़ने पर उन्हें योजना का लाभ मिल सके।

जिला कार्यक्रम समन्वयक डॉ॰ अभिषेक ने बताया कि शासन की तरफ से 15 से 31 दिसंबर तक गोल्डन कार्ड बनाने का विशेष अभियान चलाया जा रहा है। अभी तक इस अभियान में 3358 लोगों के गोल्डन कार्ड बनाए जा चुके है।

जनपद में कुल पात्र लाभार्थी 5,90,735 है जिसमें 1,03,735 लोगों का गोल्डन कार्ड बन चुका है। छह हज़ार से अधिक लोगों को इस योजना के अंतर्गत इलाज़ मिल चुका हैं। जनपद की 28 स्वास्थ्य इकाइयां आयुष्मान योजना में सूचीबद्ध हैं।

ब्लाकवार चिन्हित हुये यह गाँव

मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने बताया कि मऊरानीपुर ब्लाक का स्यावरी, बरगाँव, ककवारा, अक्सेव, रोनी । बंगरा ब्लॉक का सकरार, कचनेव, देवरी, सिंहपुरा, उल्दन, मगरपुर । बामौर ब्लॉक का सुट्टा, बामौर, इस्किल, बुजुर्ग, ककरवई, सिंगार । चिरगाँव का चिरगाँव देहात, अम्मरगढ़, जरयाई, पहाड़ी, बुज़ुर्ग, छिरोना ।

मोठ का बम्हरौली, पूंछ, लोहागढ़, सेरसा, साकिन । गुरसराय का टहरौली, बंका, पहाड़ी, भस्नेह, एवनी, मोती कटरा । बड़ागाँव का बनगुवां, अम्बावाय, दिगारा, बिरगुवां, गोरामछिया और बबीना का रक्सा, सिमरावारी, खजराहा बुज़ुर्ग, बबीना रुरल, मथुरापुरा आदि गाँव को चिन्हित किया गया है।