बड़ी सफलता-कोविड अस्पतालों में एक लाख बेड तैयार करने वाला देश का पहला राज्य बना UP

उत्तर प्रदेश : उत्तर प्रदेश सरकार ने कोरोना की इस लड़ाई में बड़ी सफलता हासिल की है. उत्तर प्रदेश कोविड अस्पतालों में एक लाख बेड तैयार करने वाला देश का पहला राज्य बन गया है. 

सिर्फ इतना ही नहीं राज्य में टेस्टिंग की प्रक्रिया भी तेजी से बढ़ी है. बता दे कि मार्च के पहले सप्ताह में प्रतिदिन केवल 50 टेस्ट ही हो पाते थे लेकिन अब यह संख्या बढ़कर 10 हजार तक पहुंच गई है.

आपको बता दें कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मई के अंत तक एक लाख बेड तैयार करने के निर्देश दिए थे और 15 जून तक टेस्टिंग की संख्या 15 हजार और जून के अंत तक 20 हजार करने का निर्देश भी दिया था.

आपको बता दें कि अभी उत्तर प्रदेश में 30 लैब काम कर रही हैं, जिसमें 24 सरकारी और 6 अन्य संस्थाओं में हैं.

प्रदेश के सभी 75 जिलों में L1, L2 लेवल के अस्पताल पूरी तरह तैयार हैं. प्रदेश में लेवल 3 के भी 25 अस्पताल तैयार किये गये हैं. कोरोना के सामान्य मरीजों के लिए लेवल – 1 और लेवल – 2 के अस्पताल हैं.

आपको बता दें कि  कोरोना के गंभीर मरीजों के लिए लेवल 3 के अस्पताल पूरी तरह तैयार हैं. लेवल 1 के अस्पतालों में सामान्य बेड के अलावा आक्सीजन की भी व्यवस्था की गई है.

लेवल 2 के अस्पतालों में बेड पर आक्सीजन के साथ कुछ में वेंटिलेटर की भी व्यवस्था की गई है. लेवल 3 के अस्पतालों में वेंटिलेटर, आईसीयू और डायलसिस की व्यवस्थाओं समेत गंभीर मरीजों के लिए हर तरह की अत्याधुनिक सुविधाओं का दावा यूपी सरकार ने किया है.

साथ ही यह भी बता दें लॉकडाउन के दौरान नोएडा में वेंटिलेटर निर्माण की यूनिट भी शुरू की गई. महंगे वेंटिलेटर खरीदने के बजाय योगी सरकार ने बेहद सस्ते और पोर्टेबल वेंटिलेटर खुद ही बनवाए. इनकी कीमत डेढ़ से 2 लाख रुपये थी.

दरअसल, कोरोना के पहले केस के वक्त यूपी के 36 जनपदों में वेंटिलेटर नहीं थे. जिसके बाद सीएम के निर्देश पर हर जनपद में पर्याप्त वेंटिलेटर दिये गये.