January 18, 2021

नौनिहालों को विटामिन ए की खुराक देने के लिये होगा ‘बाल स्वास्थ्य पोषण माह’ का आयोजन

मुख्य बातें

  • नौनिहालों को ‘विटामिन ए’ की खुराक देने को चलेगा ‘बाल स्वास्थ्य पोषण माह’
  • सीएमओ कार्यालय में जनपद स्तरीय नियोजन एवं समीक्षा/कार्यशाला का आयोजन

वाराणसी : आगामी दिनों में नौनिहालों को विटामिन ए की खुराक पिलाये जाने हेतु विटामिन ए संपूरण कार्यक्रम के रूप में ‘बाल स्वास्थ्य पोषण माह’ का आयोजन किया जाएगा.

जिसके लिए शनिवार को मुख्य चिकित्साधिकारी कार्यालय सभागार में जनपद स्तरीय नियोजन एवं समीक्षा/कार्यशाला का आयोजन किया गया।

इस दौरान अपर मुख्य चिकित्साधिकारी एवं नोडल अधिकारी डॉ वीएस राय, जिला स्वास्थ्य शिक्षा एवं सूचना अधिकारी राजेश कुमार शर्मा, यूनिसेफ से मंडलीय समन्वयक अंजनी राय, डीसीपीएम रमेश कुमार वर्मा, ग्रामीण एवं शहरी प्राथमिक/सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों के अधीक्षक/प्रभारी चिकित्साधिकारी, सीडीपीओ, एचईओ, यूनिसेफ से डीएमसी मनोज कुमार मौजूद रहे।

समीक्षा बैठक के दौरान अभियान के नोडल अधिकारी और अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ वीएस राय ने बताया कि अभियान के सफलतापूर्वक संचालन के संबंध में स्वास्थ्य विभाग और आईसीडीएस विभाग को संयुक्त रूप से दिशा-निर्देश दे दिये गए हैं।

अभियान से जुड़े दोनों विभागों के कर्मचारियों को प्रशिक्षण दिया जा रहा है ताकि वह ग्रामीण एवं शहरी स्वास्थ्य स्वच्छता एवं पोषण दिवस (वीएचएसएनडी व यूएचएसएनडी) सत्रों में 9 माह से 5 वर्ष तक के बच्चों को निर्धारित मात्रा में विटामिन ए की खुराक पिला सकें और उसका सही ढंग से अनुसरण कर सकें।

इस दौरान जिला स्वास्थ्य शिक्षा एवं सूचना अधिकारी राजेश कुमार शर्मा ने बताया कि वर्तमान परिस्थितियों को देखते हुये अभियान में कोविड-19 संक्रमण से बचाव एवं रोकथाम के नियमों का आवश्यक रूप से पालन कराया जाएगा।

सत्रों में सोशल डिस्टेन्सिंग, मास्क, सेनिटाइज़र का समय-समय पर प्रयोग और स्वच्छता पर विशेष रूप से ध्यान दिया जाएगा।

यूनिसेफ से मंडलीय समन्वयक अंजनी राय ने बताया कि अभियान में वीएचएसएनडी व यूएचएसएनडी सत्रों के अलावा एक अतिरिक्त दिन भी विटामिन ए की खुराक खिलाई जाएगी ताकि सत्र पर भीड़भाड़ एकत्रित न हो।

पूर्व से निर्धारित सत्र में टीकाकरण के साथ 9 माह से 3 वर्ष तक के बच्चों को विटामिन ए की खुराक पिलाई जाएगी।

वहीं सत्र के अगले अथवा उसके पूर्व दिवस में 3 वर्ष से 5 वर्ष तक के बच्चों को सिर्फ विटामिन ए की खुराक पिलाई जाएगी।

इसके लिए आशा आंगनबाड़ी कार्यकर्ता को ऐसे बच्चों की सूची तैयार करने के लिए कहा गया है।