संचारी रोग नियंत्रण अभियान के तहत चल रहा सफाई अभियान

मुख्य बातें

  • 150 से अधिक गाँवों में हुआ लार्वा निरोधक दवा का छिड़काव
  • ग्राम प्रधान भी कर रहे सहयोग

बांदा : कोरोना काल में संचारी रोग नियंत्रण अभियान के तहत स्वास्थ्य विभाग की टीम मच्छरों के प्रकोप और कोरोना महामारी से बचाव की जानकारी देने में जुटी है।

अभियान के तहत व्यापक स्तर पर लार्वा निरोधक दवा का छिडकाव व नालियों की सफाई की जा रही है। इसके अलावा सामाजिक दूरी का पालन करते हुए मातृ बैठकों और ग्राम स्वास्थ्य पोषण समिति की बैठकों तथा रैली निकालकर भी संचारी रोगों से बचाव के टिप्स भी दिए जा रहे हैं।

जिला मलेरिया अधिकारी पूजा अहिरवार ने बताया – संचारी रोग नियंत्रण अभियान और दस्तक अभियान के तहत लोगों को संचारी रोगों के प्रति जागरुक किया जा रहा है।

अभियान के दौरान स्वास्थ्य विभाग की टीम घर-घर जाकर लोगों को बरसात के उपरांत जल भराव के चलते पनपने वाले मच्छरों से बचाव की जानकारी दे रही है।

आशा एवं स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं द्वारा भी क्षेत्र भ्रमण के दौरान लोगों को जागरूक किया जा रहा है। वह लोगों को बता रही हैं कि मच्छरों के काटने से डेंगू-मलेरिया जैसी बीमारी फैलती है। इसलिए जरूरी है कि उन्हें पनपने ही नहीं दिया जाए।

अपने घर और आस-पास सफाई रखी जाए। ग्राम प्रधान भी लोगों को जागरूक करने में अहम् सहयोग दे रहे हैं। इसके अलावा व्यापक स्तर पर सफाई अभियान भी चलाया जा रहा है जिसमें लार्वा निरोधक दवा का छिड़काव और नालियों की साफ़-सफाई की जा रही है।

अब तक 156 गाँवों में छिड़काव किया गया है। सबसे अधिक महुआ ब्लाक के 30 गाँव और बबेरू ब्लाक के 25 गाँवों में लार्वा निरोधक दवा का छिड़काव किया गया है।

सहायक मलेरिया अधिकारी लाल साहब सिंह ने बताया कि दस्तक अभियान के तहत गृह भ्रमण के दौरान आशा और एएनएम को कोविड प्रोटोकाल का ध्यान रखने को कहा गया है।

आशा कार्यकर्ता मास्क जरूर लगाएं, हाथों को बार-बार साबुन-पानी से धोएं, कम से कम दो गज की दूरी से बात करें, घर की कुण्डी या दरवाजा न छुएं और न खटखटाएं, आवाज देकर परिवार के सदस्यों को बुलाएं व बात करें।

साथ ही ग्रामवासियों को कोरोना महामारी से कैसे बचा जा सकता है इस बाबत भी जानकारी दी जा रही है। अगर किसी में भी कोरोना के लक्षण प्रतीत हों तो वह फ़ौरन अपनी सीएचसी पर जाँच कराये।

बबेरू ब्लाक के अरमार ग्रामनिवासी बाबूलाल और सदाशिव ने बताया कि आशा के माध्यम से पूरे गाँव में लार्वा निरोधक दवा का छिड़काव कराया गया है। साथ ही लोगों को साफ़-सफाई रखने और घरों के आस-पास पानी न इकट्ठा होने देने की सलाह भी दी गई है।

बचाव के तरीके

डेंगू फैलाने वाला मच्छर साफ पानी में प्रजनन करता है, इसलिए कूलर, पानी की टंकी, गमले आदि में साफ पानी एकत्रित न होने दें।

कूलर व पानी की टंकी सप्ताह में एक बार खाली कर सुखा कर दोबारा इस्तेमाल करें। दिन में पूरी बाजू के कपड़े व मोजे पहनें और छोटे बच्चों को मच्छरदानी में सुलाएं।

तेज बुखार, आंखों के पीछे दर्द, बदन में चकत्ते होने की दशा में तत्काल जिला अस्पताल अथवा पास के किसी स्वास्थ्य केंद्र में जांच करवाएं।