मोदी कैबिनेट की बैठक में फिर बदल गई MSME की परिभाषा, रेहड़ी पटरी के लिए ऋण योजना का एलान

नई दिल्ली : आज सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दूसरे कार्यकाल का 1 वर्ष पूरा होने के बाद पहली बार पीएम नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में पूरे केंद्रीय मंत्रिमंडल की बैठक हुई.

इस बैठक में कई अहम ऐतिहासिक फैसले लिए गए जिसे बैठक के बाद प्रकाश जावड़ेकर ने प्रेस वार्ता के जरिए बताया. उन्होंने बताया यह फैसले किसानों, मजदूरों और छोटे कारोबारियों को ध्यान में रखते हुए निर्णय लिये गये हैं.

इस प्रेस कॉन्फ्रेंस में केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर के साथ नितिन गडकरी और नरेंद्र सिंह तोमर भी उपस्थित रहे.

प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि एमएसएमई (सूक्ष्म, लघु एवं मझोले उद्यम) की परिभाषा को बदल दिया गया है. उन्होंने बताया कि MSME के लिए 50,000 करोड़ की इक्विटी का प्रस्ताव पहली बार आया है.

जाने बैठक की खास बातें

  • 50 करोड़ तक निवेश वाली इकाई एमएसएमई के तहत आएगी।
  • 250 करोड़ रुपये तक के कारोबार वाली इकाई भी एमएसएमई के अंतर्गत आएगी।
  • फुटपाथ विक्रेताओं समेत रेहड़ी पटरी वालों को 10 हजार रुपये तक कर्ज दिया जाएगा।
  • सरकार ने किसानों के लिए भी कई अहम फैसले लिए हैं। 
  • 14 फसलों पर किसानों को लागत से 50 फीसदी से ज्यादा दाम मिलेगा।
  • किसानों के अलावा खेती से जुड़ी अन्य गतविधियों को भी वित्तीय मदद दी है। 
  • 80 लाख टन से ज्यादा अनाज लोगों तक पहुंचाया गया।