January 25, 2021

किसान नेता मान ने कृषि कानूनों पर सुप्रीम कोर्ट की बनाई समिति छोड़ी

नई दिल्ली : किसान नेता भूपिंदर सिंह मान ने सुप्रीम कोर्ट की ओर से तीन नए केंद्रीय कृषि कानूनों के मुद्दे पर किसानों के साथ वार्ता करने के लिए नियुक्त समिति से हटने का फैसला किया है।

आज एक वक्तव्य जारी करते हुए उन्होंने सुप्रीम कोर्ट का धन्यवाद किया कि उन्हें कमेटी में शामिल किया गया, जिसने किसानों और केंद्र सरकार के बीच तीन कृषि कानूनों को लेकर बातचीत करके रिपोर्ट सुप्रीम कोर्ट को सौंपनी थी।

बता दें कि कृषि कानूनों को चुनौती देने वाली याचिकाओं पर फैसला सुनाते हुए सुप्रीम कोर्ट ने 12 जनवरी को चार सदस्यों की कमेटी बनाई थी।

इसमें भूपेंद्र सिंह मान के अलावा इंटरनेशनल पॉलिसी एक्सपर्ट डॉ. प्रमोद कुमार जोशी, एग्रीकल्चर इकोनॉमिस्ट अशोक गुलाटी और शेतकरी संघटना, महाराष्ट्र के अनिल घनवट का नाम शामिल था। कोर्ट ने इससे पहले इन कानूनों के अमल में भी अग्रिम आदेश तक रोक लगा रखी है।

सुप्रीम कोर्ट के कमेटी में भुपिंदर सिंह मान के नाम को लेकर शुरू से ही बवाल हो रहा था। किसान नेताओं का आरोप था कि वह सरकार के आदमी हैं और तीनों कानूनों का खुला समर्थन कर रहे हैं।

हालांकि, इसपर मान ने कहा था कि, ‘सुप्रीम कोर्ट ने कमेटी बनाई है और इस पर किसान संगठनों का सवाल उठाना गलत है। उन्होंने कहा था कि एक किसान होने के नाते मैं निष्पक्ष होकर अपनी बात सरकार के सामने रखूंगा।’

12 जनवरी को गठित समिति के अन्य सदस्यों में कृषि विशेषज्ञ अशोक गुलाटी, डॉ. प्रमोद कुमार जोशी और अनिल धनवत शामिल हैं ।