January 25, 2021

कुपोषण की निगरानी को बनेंगी ‘हेल्प डेस्क’

मुख्य बातें

  • जिला व ब्लाक स्तर पर समन्वयक व सहायक होंगे तैनात
  • पोषण संबंधी गतिविधियों का हेल्प डेस्क से होगा संचालन
  • पोषण अभियान के तहत शुरू की गई योजना

महोबा : देश व समाज की तरक्की में कुपोषण बहुत बड़ी बाधा है। इससे निजात के लिए सरकार व स्वास्थ्य विभाग तमाम योजनाएं चलाकर प्रयास कर रहे हैं। ब्लाक स्तर पर पोषण अभियान की निगरानी के लिए हेल्प डेस्क स्थापित किए जा रहे हैं।

इसमें समन्वयक व सहायकों की तैनाती की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। जिला व ब्लाक स्तर पर हेल्प डेस्क स्थापित होने से लोगों को कुपोषण व उससे निजात के लिए जानकारियां दी जाएंगी।

पोषण अभियान के तहत जनपद व ब्लाक स्तर पर हेल्प डेस्क बनाई जाना है। इसके तहत प्रखंड स्तर पर कर्मियों की कमी को दूर करने के लिए खंड समन्वयक एवं खंड परियोजना सहायकों की संविदा के आधार पर नियोजन का निर्णय लिया गया है।

जनपद के विकासखंड कबरई, चरखारी, जैतपुर व पनवाड़ी में हेल्प डेस्क स्थापना की जा रही। इसके लिए प्रक्रिया भी शुरू कर दी गई। आईसीडीएस के जिला कार्यक्रम अधिकारी सुरेंद्र कुमार त्रिपाठी ने बताया कि हेल्प डेस्क से कुपोषण के विरुद्ध जन-जागरूकता का प्रसार किया जाएगा।

छह वर्ष तक के बच्चों में कुपोषण की दर को कम करने के लिए पुष्टाहार देने के साथ ही उनके माता-पिता को जागरूक किया जाएगा।

उन्होंने बताया कि प्रत्येक माह पोषण कैलेंडर के मुताबिक पोषण गतिविधियों का संचालन, पोषण के लिए अनुपूरक आहार वितरण एवं टीकाकरण कार्यक्रमों का संचालन, बच्चों, किशोरियों एवं महिलाओं में एनीमिया की रोकथाम के लिए शिविर का आयोजन व सूक्ष्म पोषक तत्वों की सामुदाय आधारित जानकारी डेस्क के माध्यम से ही प्रदान की जाएगी।

साथ ही यह भी कहा कि जनपद स्तर पर जिला समन्वयक व जिला परियोजना सहायक तथा ब्लाक स्तर पर खंड सहायक व खंड परियोजना सहायक को इसका जिम्मा सौंपा जाएगा। जिला व ब्लाक स्तर पर कर्मियों की भर्ती की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। इसे शीघ्र पूरा किया जाएगा।