पौधरोपण कर गिनीज बुक ऑफ रिकॉर्ड में दर्ज होने पर लखनऊ वन विभाग ने कर्मचारियों को किया सम्मानित

लखनऊ : जैव विविधता बनाए रखने और विलुप्त हो रहे पेड़ों की प्रजातियों को संरक्षित करने के लिए उत्तर प्रदेश के वन विभाग नें एक साथ कई प्रजातियों के पौधे रोपण करने पर गिनीज बुक ऑफ रिकॉर्ड में नाम दर्ज हुआ था ।

कार्यक्रम में अलग-अलग प्रजातियों के पौधे रोपकर गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में अपना नाम दर्ज कराया गया था। बीती 28 जुलाई को गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड एजेंसी के कंसल्टेंट समेत कई गवाहों की मौजूदगी में आयोजित हुए इस पौधरोपण को एजेंसी ने मान्यता देते हुए वन विभाग का नाम गिनीज बुक में दर्ज कर सर्टिफिकेट जारी किया था ।

जैव विविधता बनाए रखने और विलुप्त हो रहे पेड़ों की प्रजातियों को संरक्षित करने के लिए वन विभाग ने अपना नाम गिनीज बुक में दर्ज कराने की योजना बनाई थी.

शासन द्वारा इसके लिए प्रदेश के आठ जिलों को चयनित किया गया था । जिन जिलों को इसके लिए चयनित किया गया था वे हैं बाराबंकी, अयोध्या, लखनऊ, सीतापुर, मेरठ, चित्रकूट, बाँदा और गाजियाबाद थे ।

इस दौरान लखनऊ वन विभाग ने 30 प्रकार के 220 पौधे लगाकर विलुप्त प्रजाति के पौधों को संरक्षित करने की पहल की थी ।

बीते दिनों हुए कार्यक्रम को लेकर लखनऊ के जिला वन अधिकारी डॉ रवि कुमार तथा लखनऊ मंडल के मुख्य वन संरक्षक आरके सिंह ने लखनऊ में वन विभाग के अधिकारियों एवं कर्मचारियों को उनके सराहनीय तथा अच्छे कार्य के लिए प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया है ।