October 16, 2021

महंत गिरी हत्याकांड: सीबीआई कराएगी क्राइम सीन का रिक्रिएशन,बारीकी से होगी जांच

नई दिल्ली : महंत नरेद्र गिरि महाराज की हत्या की जांच अब सीबीआई को सौंपी गई है। सीबीआई अब तमाम एगंलो की जांच करके पता लगाएगी कि उनकी हत्या हुई थी या उन्हे आत्महत्या के लिए उकसाया गया था।

साथ ही इस बात की भी जांच करेगी कि इसके पीछे क्या कोई आपराधिक षडयंत्र भी था? मामले का पर्दाफाश करने के लिए सीबीआई सीएफएसएल टीम की मदद से क्राइमसीन का रिक्रिएशन कराएगी।

इसके साथ ही इस मामले मे गिरफ्तार आरोपियो और गवाहों से पूछताछ भी करेगी. सीबीआई टीम आरंभिक दौर में प्रयागराज में कैंप ऑफिस बनाकर जांच करेगी.

सीबीआई मुख्यालय में इस मामले की जांच विशेष अपराध शाखा दिल्ली को सौंप दी गई. विशेष अपराध शाखा की 20 सदस्यीय टीम आज प्रयागराज पहुंच गई और उसने अपनी जांच शुरू कर दी है.

इस अहम मामले की जांच सीबीआई के अतिरिक्त निदेशक डीसी जैन और संयुक्त निदेशक विप्लव चौधरी की निगरानी में की जायेगी.

सीबीआई करेगी सभी पहलुओं की गहराई से जांच

सूत्रों के मुताबिक, सीबीआई निदेशक ने इस जांच को लेकर अहम बैठक की और जांच टीम को स्पष्ट निर्देश दिए कि मामले की जांच के दौरान सभी पहलुओं को ध्यान में रखकर जांच की जाए।

और यह हत्या थी या आत्महत्या या फिर किसी ने आत्महत्या के लिए उकसाया था और क्या इसके पीछे कोई आपराधिक षडयंत्र था? इन सभी पहलुओ की गहराई से जांच की जाए.

सूत्रों ने बताया कि सीबीआई निदेशक के निर्देश के बाद 20 सदस्यीय टीम, जिसमें सीएफएसएल के अधिकारी भी शामिल हैं, प्रयागराज पहुंच गई है.

जांच से जुडे एक आला अधिकारी ने बताया कि टीम को विभिन्न हिस्सो मे बांट कर जांच की जायेगी. एक टीम गवाहो सें पूछताछ, दूसरी टीम इस मामले में गिरफ्तार आरोपियो सें पूछताछ और तीसरी टीम मौका ए वारदात का मुआयना कर पोस्टमार्टम करने वाले डाक्टरो से पूछताछ करेगी.

इस मामले में सीबीआई महंत के कमरे में सबसे पहले दाखिल होने वाले उनके तीन सेवादारों से भी पूछताछ करेगी.

सीबीआई इस मामले में अनेक जांच पहलुओं की वीडियोग्राफी भी कराएगी, जिससे बाद मे कोई सशंय पैदा ना हो सके.

पुलिस सीबीआई टीम को सौंपेगी सभी दस्तावेज 

सीबीआई के एक आला अधिकारी के मुताबिक, इस मामले में जितने भी ऑडियो, वीडियो या लिखित दस्तावेज सामने आए हैं, उन सभी को फोरेंसिक जांच के लिए सीएफएसएल लैब भेजा जायेगा,

जिससे यह पता चल सके कि किसी लिखावट या वीडियो में कोई हेराफेरी तो नही की गई है. सीबीआई ने उत्तरप्रदेश पुलिस को स्पष्ट निर्देश दिए है कि इस बाबत जितने भी दस्तावेज, वीडियो, पोस्टमार्टम रिपोर्ट, गवाहों और आरोपियो के बयान समेत जो टेक्नीकल सर्विलांस किए गए है, उन सभी को शनिवार सुबह तक सीबीआई टीम को सौंप दिया जाए.

फिलहाल सीबीआई मुख्यालय अपनी निगरानी मे इस जांच को करा रहा है औऱ जल्द ही इस मामले के भेद खुल कर सामने आने लगेगें.

प्रयागराज में अखिल भारतीय अखाडा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरी की मौत के मामले मे यूपी सरकार की सीबीआई जांच की अनुशंसा के बाद केद्र सरकार ने सीबीआई जांच के आदेश जारी कर दिए थे.