मन की बात -पीएम ने कहा बरतनी होगी ज्यादा सावधानी

नई दिल्ली : देश में जानलेवा कोरोना वायरस के प्रकोप के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ‘मन की बात’ की. लॉकडाउन में यह तीसरी बार है जब पीएम मोदी ने मन की बात की.

पीएम मोदी ने कहा कि दुनिया के मुकाबले भारत में कोरोना वायरस कम फैला है. अब हमें आगे और सावधानी बरतनी होगी.

धीरे धीरे अर्थव्यवस्था फिर से शुरू होने लगी है. सावधानियों के साथ हवाई जहाज भी उड़ाये जाने लगे हैं इसलिए अब अधिक सतर्कता बरतना बहुत आवश्यक है जिसके लिये दो गज की दूरी का नियम हो, मुंह पर मास्क लगाने की बात हो, या घर में रहना हो, हमें सभी बातों का पालन करना होगा.

पीएम मोदी ने कहा कि हमारे देश में कोई वर्ग ऐसा नहीं है जो कठिनाई में न हो, परेशानी में न हो इसके बावजूद कोरोना की इस लड़ाई में देश के सभी वर्ग एकसाथ मिलकर आगे आये हैं और मजबूती से ये लड़ाई लड़ रहे हैं. जो प्रशंसनीय है.

मोदी ने कहा कि हमारे डॉक्टर्स, नर्सिंग स्टाफ, सफाईकर्मी, पुलिसकर्मी, मीडिया के साथी ये सब जो सेवा कर रहे हैं, उसकी चर्चा मैंने कई बार की है.

मन की बात में भी मैंने उसका जिक्र किया है. सेवा में अपना सब कुछ समर्पित कर देने वाले लोगों की संख्या अनगिनत है.

उन्होंने कहा की देशवासियों की संकल्पशक्ति के साथ एक और शक्ति इस लड़ाई में हमारी सबसे बड़ी ताकत है और वो है- देशवासियों की सेवाशक्ति.

उन्होंने कहा, ‘’एक और बात जो मेरे मन को छू गई, वो है संकट की इस घड़ी में इनोवेशन, गांवों से लेकर शहरों तक, छोटे व्यापारियों से लेकर स्टार्टअप तक, हमारी लैब्स कोरोना से लड़ाई में, नए-नए तरीके इज़ाद कर रहे हैं, नए इनोवेशन कर रहे हैं.’’

इसमें देश और गांव के महिला सेल्फ हैल्प ग्रुप के परिश्रम की भी अनगिनत कहानियां इन दिनों हमारे सामने आ रही हैं. गांवों, कस्बों में हमारी बहनें-बेटियां, हर दिन मास्क बना रही हैं. तमाम सामाजिक संस्थाएं भी इस काम में इनका सहयोग कर रही हैं.

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, ‘इस दौरान पढ़ाई के क्षेत्र में भी कई अलग अलग इनोवेशन शिक्षकों और छात्रों ने मिलकर किए हैं। ऑनलाइन क्लासों को शुरू किया गया है। कोरोना की दवा पर हमारी लैब में जो काम हो रहा है, उसपर पूरी दुनिया की नजर है।’

पीएम मोदी ने कहा कि कोरोना संकट के इस समय में योग आज ज्यादा अहम है, क्योंकि वायरस हमारे रेस्पिरेट्री सिस्टम को सबसे अधिक प्रभावित करता है। योग में तो इसको मजबूत करने वाले कई तरह के प्राणायाम हैं, जिनका असर हम लंबे समय से देखते आ रहे हैं।

इसके अलावा योग को अहम् बताते हुए पीएम मोदी ने बतया कि आपके जीवन में योग को बढ़ाने के लिए आयुष मंत्रालय ने भी इस बार एक अनोखा प्रयोग किया है.

आयुष मंत्रालय ने ‘My Life, My Yoga’ नाम से अंतर्राष्ट्रीय वीडियो ब्लॉग उसकी प्रतियोगिता शुरू की है. भारत ही नहीं, पूरी दुनिया के लोग इस प्रतियोगिता में हिस्सा ले सकते हैं.

इसमें हिस्सा लेने के लिए आपको अपना तीन मिनट का एक वीडियो बना करके अपलोड करना होगा. इस वीडियो में आप, जो योग, या आसन करते हों, वो करते हुए दिखाना है और योग से आपके जीवन में जो बदलाव आया है, उसके वारे में भी बताना है.’’

उन्होंने दुख जताते हुए कहा कि इस संकट की सबसे बड़ी चोट अगर किसी पर पड़ी है तो वो हमारे गरीब, मजदूर, श्रमिक वर्ग पर पड़ी है. उनकी तकलीफ, उनका दर्द, उनकी पीड़ा शब्दों में नहीं कही जा सकती.’’ उन्होंने कहा कि कोरोना के खिलाफ लड़ाई का यह रास्ता लंबा है.

यह एक ऐसी आपदा जिसका पूरी दुनिया के पास कोई इलाज नहीं है, जिसका कोई पहले का अनुभव ही नहीं है. ऐसे में नई नई चुनौतियां हमारे सामने आ रही हैं.

साथ ही प्रधानमंत्री मोदी ने इन गरीब प्रवासी मजदूरों को देखते हुए कहा कि अब नए कदम उठाना जरूरी हो गया है। हम उस दिशा में आगे बढ़ रहे हैं। कहीं माइग्रेशन कमिशन बनाने की बात हो रही है। केंद्र सरकार के फैसलों से रोजगार मिलने वाले हैं। ये फैसले आत्मनिर्भर भारत के लिए हैं। 

बता दें कि लॉकडाउन 5.0 शुरू हो चुका है जिसे अनलॉक-1 का नाम दिया गया है. इसकी घोषणा कल शनिवार को की गई. जिसके वाद आज रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 65वीं ‘मन की बात’ की है।

पीएम मोदी हर महीने के अंतिम रविवार को रेडियो के जरिए ‘मन की बात’ कार्यक्रम करते हैं। इसके जरिए पीएम कई महत्वपूर्ण मुद्दों पर लोगों को संबोधित करते हैं।