अमेरिका और यूरोप में आई नई बीमारी,बच्चों पर कर रही हमला

एजेंसी : कोरोना वायरस का कहर अभी थमने भी नहीं पाया था कि यूरोप, अमेरिका और ब्रिटेन में एक और बीमारी ने दस्तक दे दी.

बताया जा रहा है इन देशों में बच्चों में एक नई बीमारी कावासाकी देखी जा रही है. विशेषज्ञों का कहना है कि इसका संबंध कोरोना वायरस से हैं.

लांसेट पत्रिका में छपी एक रिपोर्ट के मुताबिक इटली के बेरगामो में 30 गुना कावासाकी जैसी बीमारी के मामले पिछले महीने बच्चों में पाए गए.

इस बीमारी से प्रभावित होने वाले बच्चों की उम्र सात-साढ़े सात साल तक थी. इटली के शोधकर्ताओं का मानना है कि कोविड-19 कावासाकी जैसी बीमारी का कारण हो सकती है.

फिलहाल यूरोप, अमेरिका और ब्रिटेन में दर्जनों बच्चे सूजन की बीमारी से पीड़ित हुए हैं. न्यूयॉर्क प्रांत में तीन बच्चों की मौत के बाद बीमारी के मामले लुसियाना, कैलिफोर्निया और मिसिसिपी में पाए गए.

एक रिपोर्ट के मुताबिक पिछले हफ्ते कावासाकी जैसी बीमारी से पीड़ित 20 बच्चे लंदन के अस्पताल में भर्ती हुए. लंदन में बच्चों के अस्पताल Evelina में 8 बच्चों का इलाज किया गया.

इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती 14 वर्षीय बच्चे ने 6 दिन ICU में बिताए. उसकी मौत के बाद उसमें कोरोना वायरस पॉजिटिव का मामला सामने आया.

मेडिकल टीम के मुताबिक जिस वक्त अस्पताल में उसे भर्ती किया गया था उसके शरीर का तापमान 40 डिग्री सेल्सियस था. इसके अलावा उसे डायरिंया, सिर दर्द और पेट दर्द की शिकायत भी थी.

डॉक्टरों ने बताया कि सभी बच्चों में एक ही तरह के लक्षण सामने आए. जब उन्हें भर्ती कराया गया तब बच्चों को तेज बुखार था हालांकि अस्पताल में भर्ती ज्यादातर बच्चों को श्वसन संबंधी शिकायत नहीं थी.

इसके बावजूद हृदय संबंधी समस्या के कारण 7 बच्चों को वेंटिलेटर पर रखा गया. जो बच्चे बीमारी से बच गए उनकी उम्र 14 साल पाई गई.

ब्रिटेन के स्वास्थ्य मंत्री मैट हैनकॉक ने पिछले महीने बच्चों में रोग के लक्षण का पता लगाने की बात कही थी.

वैसे अगर हम कोरोना की बात करें तो अब तक बच्चों पर ये वायरस ज्यादा हमला नहीं कर पाया है. कुछेक मामले आए हैं जिसमें कोरोना वायरस पॉजिटिव बच्चों की मौत हुई है. लेकिन दुनियाभर में बच्चों पर संक्रमण के मामले कम ही रहे है.