पायलट की HC में अयोग्यता याचिका पर सुनवायी टली,सुधार के लिये माँगा समय

नई दिल्ली : राजस्थान हाई कोर्ट में सचिन पायलट और उनके समर्थक गुट ने जो याचिका दायर की थी उस मामले में सुनवाई टल गई है.

बता दें कि याचिकाकर्ताओं ने खुद ही कोर्ट से याचिका में सुधार के लिए और वक्त मांग लिया. स्पीकर के नोटिस के खिलाफ बागी विधायकों ने याचिका दायर की थी और अब सुधार के लिए कोर्ट से समय मांगा है.

ये मामला राजस्थान हाई कोर्ट में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए चल रहा था. बागी विधायकों की तरफ से कोर्ट में पेश हुए वकील हरीश साल्वे ने कहा कि असंतुष्ट विधायक राजस्थान विधानसभा के अध्यक्ष द्वारा जारी अयोग्यता नोटिस की संवैधानिक वैधता को चुनौती देना चाहते हैं.

साल्वे ने कहा कि याचिकाकर्ता संविधान की दसवीं अनुसूची में निहित दल-बदल विरोधी कानून को चुनौती देंगे. कांग्रेस के मुख्य सचेतक महेश जोशी के वकील अभय कुमार भंडारी ने कहा कि याचिकाकर्ता की तरफ से याचिका में संशोधन के लिए समय मांगा गया है.

कोर्ट ने उन्हें समय दिया है. अगली सुनवाई तब होगी जब वे संशोधित याचिका दायर करेंगे.

ये हैं वो विधायक जिनको भेजा गया नोटिस

यह नोटिस सचिन पायलट, रमेश मीणा, इंद्राज गुर्जर, गजराज खटाना, राकेश पारीक, मुरारी मीणा, पी. आर. मीणा, सुरेश मोदी, भंवर लाल शर्मा, वेदप्रकाश सोलंकी, मुकेश भाकर, रामनिवास गावड़िया, हरीश मीणा, बृजेन्द्र ओला, हेमाराम चौधरी, विश्वेन्द्र सिंह, अमर सिंह, दीपेंद्र सिंह और गजेंद्र शक्तावत को भेजा गया 

दरअसल, अशोक गहलोत सरकार की 2 दिन तक लगातार बुलाई गई विधायक दल की बैठक में सचिन पायलट और उनके साथी विधायक नहीं पहुंचे थे.

जिसके बाद सचिन पायलट सहित 19 विधायकों को राजस्थान विधानसभा स्पीकर की ओर से बुधवार को नोटिस भेजा गया था। स्पीकर ने इन विधायकों को नोटिस भेजकर 17 जुलाई तक जवाब मांगा है।