PM बोले-भारत में स्थिति बेहतर पर अनलॉक में लोग कर रहे लापरवाही

नई दिल्ली : कोरोना काल में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज छठी बार राष्ट्र को संबोधित किया . आखिरी बार पीएम ने 12 मई को राष्‍ट्र को संबोधित किया था. तब उन्‍होंने लॉकडाउन से उबर रही अर्थव्‍यवस्‍था के लिए 20 लाख करोड़ रुपये के वित्‍तीय पैकेज की घोषणा की थी.

प्रधानमंत्री मोदी ने अपने आज के संबोधन में कई अहम बातों का जिक्र किया. उन्होंने कहा कि कोरोना के संकटकाल में भारत की स्थिति काफी बेहतर है लेकिन आज जब हमें ज्यादा सतर्कता की जरूरत है तो लापरवाही बढ़ना बहुत ही चिंता की बात है. हम अनलॉक के दौर में प्रवेश कर रहे हैं.

साथ ही ऐसे मौसम में हम प्रवेश कर रहे हैं जब सर्दी-बुखार होते हैं. ऐसे में आप सभी से प्रार्थना है अपना ध्यान रखिए. ये बात सही है कि कोरोना से मृत्यु दर को देखें तो भारत संभली हुई स्थिति में हैं. समय पर किए गए लॉकडाउन ने लाखों लोगों का जीवन बचाया है.”

पीएम मोदी ने कहा अनलॉक होने के बाद से लापरवाही बढ़ रही है. पहले मास्क लगाने और 2 गज की दूरी और हाथ धोने को लेकर हम सतर्क थे लेकिन जब ज्यादा ध्यान रखना है तो हम लापरवाही बरत रहे हैं.

हमें फिर से पहले जैसी सतर्कता दिखाने की जरूरत है, खासकर कि कंटेनमेंट जोन में. नियमों का पालन न करने वालों को रोकना, टोकना और समझाना भी होगा.

इसके साथ ही पीएम मोदी ने घोषणा की कि प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के अंतर्गत गरीबों को मुफ्त राशन की योजना को पांच महीने बढ़ाया जा रहा है.

अब ये योजना नवंबर तक देश में लागू रहेगी. इस योजन के तहत गरीबों को 5 किलो मुफ्त गेंहू या चावल और एक किलो चना दिया जाएगा.

प्रधानमंत्री ने कहा कि इस योजना को नंवबर तक लागू करने में 90 हजार करोड़ का अतिरिक्त खर्च आएगा. पीएम ने ये भी कहा कि जब से ये योजना शुरू हुई है तब से नवंबर तक इसमें डेढ़ लाख करोड़ तक का खर्च आएगा.

पीएम मोदी ने कहा,” अब देश के लिए एक राष्ट्र एक राशन कार्ड की व्यवस्था किया जा रहा है. इसका फायदा गरीबों को होगा.” उन्होंने कहा,” हम लोकल से वोकल होंगे और आत्मनिर्भर होंगे.आप सभी सुरक्षित रहिए”

प्रधानमंत्री ने कहा एक और बड़ी बात है जिसने दुनिया को भी हैरान किया है, वो ये कि कोरोना से लड़ते हुए भारत में, 80 करोड़ से ज्यादा लोगों को 3 महीने का राशन, यानि परिवार के हर सदस्य को  5 किलो गेहूं या चावल मुफ्त दिया गया.

एक तरह से देखें तो, अमेरिका की कुल जनसंख्या से ढाई गुना अधिक लोगों को,   ब्रिटेन की जनसंख्या से 12 गुना अधिक लोगों को, और यूरोपियन यूनियन की आबादी से लगभग दोगुने से ज्यादा लोगों को हमारी सरकार ने मुफ्त अनाज दिया है.

पीएम मोदी ने कहा कि भारत में स्थानीय प्रशासन को चुस्ती से काम करना होगा ताकि लोग लापरवाही न बरतें. भारत में चाहें गांव का प्रधान हो या देश का प्रधानमंत्री कोई भी नियमों से ऊपर नहीं है.

पीएम मोदी ने सभी देशवासियों से अपना ख्याल रखने और सतर्कता बरतने की अपील करते हुए कहा है कि हमें अभी भी सख़्ती से नियमों का पालन करने की जरुरत है.