March 21, 2020

कोरोना संक्रमण से बचाएगा जनता कर्फ्यू, करें सहयोग

मुख्य बातें

  • आशा फोन के जरिए भी दे रहीं जानकारी
  • स्वास्थ्य विभाग पूरी तरह से अलर्ट

झाँसी : कोरोना के खिलाफ शुरू हुई लड़ाई में जनता का सहयोग जरूरी हो गया है। लिहाजा इसी के मद्देनजर कल 22 मार्च को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जनता कर्फ़्यू का आह्वान किया है।

इसके साथ ही स्वास्थ्य विभाग ने भी कोरोना के खिलाफ होने वाले जनता कर्फ़्यू को लेकर आम लोगों से सहयोग की अपील की है ताकि इस बीमारी के प्रसार पर काबू पाया जा सके।

चीन से शुरू हुआ कोरोना वायरस अब भारत सहित कई देशों में फैल चुका है। मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ॰ जी के निगम का कहना है- जनता कर्फ्यू का लोगों को पालन करना चाहिए।

उनके घूमने-फिरने के शौक की वजह से संक्रमण फैल सकता है। यदि संक्रमण फैलेगा तो इसकी चपेट में कोई भी आ सकता है। उन्होंने बताया कि जनता कर्फ्यू लगाना इसलिए जरूरी है, क्योंकि कोरोना संक्रमण का वायरस कई घंटे तक जीवित रहता है।

यदि लोग आपस में मिलेंगे ही नहीं तो वायरस फैलने से बचेगा और जहां भी है, वहां वह स्वतः ही नष्ट हो जाएगा। उन्होंने बताया कि यह वायरस हवा के साथ-साथ लकड़ी, स्टील या धातु, प्लास्टिक आदि पर रहता है, जिसे बार-बार छूने से फैलता है।

उन्होंने कहा कि जिन्दगी से जरूरी कोई काम नहीं हो सकता, इसलिए रविवार को सभी अपने-अपने परिवार के साथ घर में ही रहें। रूटीन चेकअप के लिए अस्पताल जाने के बजाए फोन पर सलाह ली जा सकती है।

65 वर्ष की आयु के ऊपर बुजुर्गों को कुछ सप्ताह तक घर से बाहर न निकलने की सलाह दी जा रही है। उन्होंने कहा कि संक्रमण से बचना ही बेहतर है। स्वास्थ्य केंद्रों मंह आवश्यक सामग्री, एंबुलेंस एवं कंट्रोल रूम की व्यवस्था की गई है।

संयम और संकल्प की जरूरत

जिला सर्विलेंस अधिकारी डॉ॰ सुधीर कुलश्रेस्ठ का कहना है कि मुश्किल की इस घड़ी में संकल्प और संयम की बहुत जरूरत है। संकल्प का मतलब यह है कि हम भीड़भाड़ वाली जगहों में जाने से बचें ।

एक नागरिक के नाते अपने कर्तव्य का पालन करें। संयम का तरीका क्या है? भीड़ से बचना, घर से बाहर निकलने से बचना।

आजकल जिसे सोशल डिस्टेंसिंग कहा जा रहा है, वह कोरोना जैसी वैश्विक महामारी के इस दौर में बहुत ज्यादा आवश्यक है।

उन्होंने कहा- आज हमें यह संकल्प लेना होगा कि हम स्वयं संक्रमित होने से बचेंगे और दूसरों को भी संक्रमित होने से बचाएंगे।

एपीडेमियोंलाजिस्ट डॉ॰ अनुराधा ने बताया कि यदि किसी को ऐसे व्यक्ति के बारें में पता चलता है कि वह बाहर देश से आया है तो तत्काल इसकी सूचना हेल्पलाइन नंबर-18001805145 (टोल फ्री) है, साथ ही 0510-2440521 संक्रामक रोग नियंत्रण कक्ष (कार्यालय मुख्य चिकित्सा अधिकारी) पर संपर्क कर बताए।

कोरोना वायरस से बचाव के चार प्रमुख संदेश
हाथों को साबुन और पानी से धोते रहे
• खाँसते और छीकते समय अपने नाक और मुंह को टिशु या रुमाल से ढके
• चेहरे, आँख, नाक, मुंह को बार बार न छुए
• ज्यादा भीड़ भाड़ वाली जगह न जाए, खांसी जुखाम वाले मरीजों से तीन फुट की दूरी बनाए रखे