October 13, 2021

दिल्ली सरकार का सख्त आदेश: एप्सेंट माने जाएंगे 16 अक्टूबर तक कोरोना की प्रथम डोज न लेने वाले कर्मचारी

नई दिल्ली : कोरोना महामारी का कहर राजधानी दिल्ली में भले ही कम हो गया हो लेकिन दिल्ली सरकार इसे लेकर बेहद सतर्क नजर आ रही है।

जिसके लिए दिल्ली सरकार जल्द से जल्द दिल्ली वासयों का टीकाकरण करवाकर दिल्ली वासयों को कोरोना से सुरक्षित करने की कोशिश में लगी है।

इसीलिए दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण ने एक बड़ा आदेश जारी करते हुए कहा है कि दिल्ली सरकार के जिन कर्मचारियों ने अब तक वैक्सीन की एक भी डोज नहीं लगवाई है वह 16 अक्तूबर से दफ्तर में प्रवेश नहीं पा सकेंगे।

डीडीएमए के स्‍टेट एग्‍जीक्‍यूट‍िव कमेटी के चेयरपर्सन और द‍िल्‍ली के चीफ सेक्रेटरी व‍िजय देव की ओर से आज शुक्रवार को एक नया आदेश जारी क‍िया गया है.

डीडीएमए ने जारी आदेश में कहा है कि दिल्ली सरकार के कर्मचारियों को 16 अक्तूबर से तब तक दफ्तर आने की इजाजत नहीं होगी जब तक कि उन्हें वैक्सीन की पहली डोज न लग जाए।

आदेश में बताया गया है कि डीडीएमए की 29 सितंबर को हुई बैठक में सभी सरकारी कर्मचारियों, फ्रंटलाइन वर्कर, स्वास्थ्य कर्मचारियों और शिक्षकों व सभी स्कूल या कॉलेज स्टाफ के लिए 100 प्रतिशत वैक्सीनेशन जरूरी होगा क्योंकि, ये लोग आम लोगों के लगातार संपर्क में आते रहते हैं।

आपको बताते चलें कि श‍िक्षा न‍िदेशालय की ओर से पहले भी कई बार आदेश जारी कर स्‍कूल श‍िक्षकों और स्‍टॉफ को कोरोना वैक्‍सीन डोज लगवाने के न‍िर्देश द‍िए गए.

वहीं अब सभी स्‍कूलों सरकारी के साथ-साथ प्राईवेट स्‍कूलों के स्‍टॉफ ज‍िसमें ट्रांसपोर्टेशन और सभी संबंध‍ित स्‍टॉफ भी शाम‍िल है, सभी को 15 अक्‍टूबर तक वैक्‍सीन डोज लगवाने के न‍िर्देश द‍िए गए हैं. ऐसा नहीं करने वाले स्‍कूल में अनुपस्थित माना जाएगा.