August 10, 2022

लिंक वे के साथ बनेगा देश का सबसे लम्बा एक्सप्रेस वे,इन शहरों की दूरी होगी कम

लखनऊ : पूर्वांचल एक्सप्रेसवे को बलिया से जोड़ने के लिये लिंक वे बनाया जाएगा। उत्तर प्रदेश मंत्रिमण्डल ने इसकी विस्तृत परियोजना रिपोर्ट (डीपीआर) बनाने के निर्णय को सोमवार को मंजूरी दे दी।

राज्य सरकार के प्रवक्ता सिद्धार्थ नाथ सिंह ने मंत्रिमण्डल की बैठक के बाद संवाददाताओं को बताया कि पूर्वांचल एक्सप्रेसवे को बलिया से जोड़ने के लिये लिंक वे बनाया जाएगा। यह डीपीआर छह माह में तैयार हो जाएगा।

उन्होंने बताया कि करीब 40 किलोमीटर का यह लिंक वे चार लेन का होगा। यूपीडा के अध्यक्ष अवनीश अवस्थी ने इस बारे में विस्तृत जानकारी दी कि बलिया लिंक वे पर प्रति किलोमीटर 40 करोड़ रुपये का खर्च आयेगा।

इस पूरे मार्ग की अनुमानित लागत 1500 से 1600 करोड़ रुपये के बीच होगी। उन्होंने बताया कि इस लिंक वे के बन जाने से यमुना एक्सप्रेसवे, पूर्वांचल एक्सप्रेसवे और आगरा एक्सप्रेस का सम्पर्क बिहार की सीमा से जुड़ जाएगा।

पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे देश का सबसे लंबा एक्सप्रेस-वे होगा. पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे जिला लखनऊ के चंदसराय से जिला गाज़ीपुर के हैदरिया को जोड़ेगा. इसके अतिरिक्त, एक्सप्रेस-वे को एक अलग लिंक रोड के माध्यम से वाराणसी से भी जोड़ा जाएगा.

पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे से प्रदूषण स्तर, समय बचाने, ईंधन की बचत, दुर्घटनाओं में कमी के साथ-साथ कई लाभ प्रदान करने की संभावना है. इसके अलावा, यात्रा समय पांच घंटे तक कम होने की उम्मीद की जा रही है.

पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे उत्तर प्रदेश के 9 जिलों- लखनऊ, गाज़ीपुर, अमेठी, आजामगढ़, फैजाबाद, बाराबंकी, मउ, अम्बेडकरनगर और सुल्तानपुर को निर्बाध कनेक्टिविटी प्रदान करेगा.

इसके अतिरिक्त यह 165 किलोमीटर लंबे आगरा-ग्रेटर नोएडा यमुना एक्सप्रेसवे और 302 किमी लंबे आगरा-लखनऊ एक्सप्रेसवे के माध्यम से राष्ट्रीय राजधानी में भी जोड़ देगा.

उत्तर प्रदेश में पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे, जिसे इंजीनियरिंग, खरीद और निर्माण (ईपीसी) मोड पर बनाया जा रहा है, आठ लेन तक विस्तार योग्य होगा.

मौजूदा आगरा-लखनऊ एक्सप्रेसवे से जुड़ने के बाद पूर्वांचल एक्सप्रेसवे एक विशाल औद्योगिक गलियारा बन जाएगा. यह पूर्वी उत्तर प्रदेश को पश्चिमी सीमा से जोड़ देगा, जिसके परिणामस्वरूप राज्य के समग्र विकास होगा.

About Post Author