August 12, 2022

यूपी: कोरोना की दूसरी लहर का असर 31 मई तक खत्म करने का लक्ष्य,तीसरी लहर को रोकने की युद्धस्तर पर हो रही तैयारी

यूपी :  सीएम योगी ने कहा है कि हमनेे प्रदेश में कोरोना की दूसरी लहर का असर 31 मई तक खत्म करने का लक्ष्य तय किया है। इसी के साथ जून में टीकाकरण का वृहद अभियान राज्य सरकार चलाएगी।

शुक्रवार शाम को मुख्यमंत्री लखनऊ विकास प्राधिकरण के सभागार में लखनऊ मंडल के जिलों में कोविड से निपटने के लिए चल रहे प्रयासों की समीक्षा बैठक कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि तीसरी लहर के लिए भी हम अभी से तैयार हो रहे हैं। बच्चों को इससे बचाने के लिए पीडियाट्रिक्स आईसीयू के निर्माण की तैयारी युद्ध स्तर पर चल रही है।

दस वर्ष से कम उम्र के बच्चों के माता-पिता को उपलब्ध कराई जाएगी वैक्सीन 

बता दें कि एक करोड़ 62 लाख से अधिक लोगों को टीका लग चुका है। इस सुरक्षा कवच के साथ-साथ यह भी व्यवस्था की जा रही है कि जो लोग शहर-गांव में लोग अस्पताल में जाने से परहेज कर रहे हैं।

ऐसे में सभी जगह टीकाकरण चल रहा है, हमारा प्रयास है कि हम लोग 31 मई को कोरोना की दूसरी लहर को नियंत्रित करेंगे और जून में दोगुनी-तीन गुनी रफ्तार से टीकाकरण को आगे बढ़ाएंगे।

ताकि तीसरी लहर में दस वर्ष से कम उम्र के बच्चों के माता-पिता को वैक्सीन उपलब्ध करवा सकें।

इससे यदि कोई बच्चा संक्रमित होता है तो परिवार का कोई सदस्य उनके साथ रहकर देखभाल कर सकेगा।

युद्ध स्तर पर हो रही तीसरी लहर से निपटने की तैयारी

यदि संक्रमण की दर को देखें तो अकेले लखनऊ में 23 अप्रैल को एक दिन में 7100 से अधिक पॉजिटिव केस मिले थे। आज की तारीख में यह संख्या सैकड़ा में यानी 200 के आसपास पहुंच गई है।

दर की बात करें तो 20 के आसपास की पाजीटिविटी रेट अब 1.9 प्रतिशत के आसपास है। डब्ल्यूएचओ और नीति आयोग द्वारा तय रेट जो 5 के आसपास है, उससे भी काफी नीचे हैं हम।

इस दौरान बेड्स की संख्या बढ़ाई गई। डीआरडीओ, एचएएल, चिकित्सा संस्थानों ने व्यापक पैमाने पर बेड्स बढ़ाए।

तीसरी लहर के लिए हम अभी तैयार हो रहे हैं। बच्चों को इससे बचाने के लिए पीडियाट्रिक्स आईसीयू के निर्माण की तैयारी युद्ध स्तर पर चल रही है।

इस समय की अतिरिक्त आक्सीजन, आने वाले संकट से निपटने में सहायक

बीते दिनों अचानक से तीस से पचास गुना संक्रमण के कारण मरीजों की संख्या बढ़ गई थी। आक्सीजन का संकट आ गया था। भारत सरकार के सहयोग से आक्सीजन एक्सप्रेस चलाई गई।

एयरफोर्स के माध्यम से आक्सीजन टैंकर भेजे गए। आक्सीजन की मांग के अनुसार पूर्ति की जा रही है। यानी हमारे पास इस वक्त अतिरिक्त आक्सीजन है।

इसके अलावा भविष्य की जरूरतों को ध्यान में रखते हुए विभिन्न जिलों में 300 के आसपास प्लांट लगाने की कार्रवाई शुरू कर दी है। इनमें से अकेले 19 आक्सीजन प्लांट अकेले लखनऊ में प्रस्तावित हैं।

हाई रिस्क वाले लोग घर में ही रहें 

मुख्यमंत्री ने कहा कि लगातार जिलों का दौरा, समीक्षा बैठक जारी है। जिलों में वरिष्ठ अधिकारी, नोडल अफसर मौजूद हैं। सभी से 24 मई तक जिलों की रिपोर्ट मांगी गई है।

यह टीम वर्क है, मेरी आप सबसे अपील है कि पूरा देश करोना के खिलाफ लड़ रहा है। इस लड़ाई में जनता की जागरूकता की बहुत अहम भूमिका है।

मास्क, दो गज की दूरी का नारा तो प्रधानमंत्री ने दिया था, साथ ही हाई रिस्क वाले व्यक्तियों से बाहर न निकलने की अपील की थी।

इनमें बुजुर्ग, बच्चे, गर्भवती, किसी गंभीर बीमारी से ग्रसित मरीज, डायबिटिज मरीज या कमजोर इम्युनिटी वाले लोग शामिल हैं। इन्हें हर तरह की सावधानी रखनी होगी। इससे तीसरी लहर से भी बचेंगे। 

ब्लैक फंगस की एक नई चुनौती सामने आई है। जिन जनपदों में इसके मामले ज्यादा आए हैं, वहां पांच दिन पहले ही इसकी ट्रेनिंग करवा दी गई। गाइलडाइन जारी हो गई है।

शासन स्तर पर दवा उपलब्ध कराने का प्रयास हो रहा है। इसके लिए केन्द्र बना दिए गए हैं। हर संभव सहायता उपलब्ध कराई जा रही है।

सेकंड वेव में निगेटिव होने के बाद भी दिक्कतें बरकरार हैं, इसलिए हर जिले में पोस्ट कोविड वार्ड तैयार करने को कहा गया है।

टीकाकरण के लिए हों जागरूक

सीएम योगी ने कहा कि कोविड प्रोटोकाल का पालन करने और टीकाकरण के लिए जागरूक करें तो बहुत अच्छा होगा। देखने में आ रहा है कि लोग टीकाकरण से अभी भी हिचक रहे हैं।

सरकार अपने स्तर पर काम कर रही है, सीएचसी को एक्टिव किया गया है। सरकार निशुल्क वैक्सीन के लिए संकल्पबद्ध है।

18-44 आयु वर्ग को राज्य सरकार और 45 से ऊपर वालों को केन्द्र सरकार निशुल्क टीका उपलब्ध कराएगी।

About Post Author