December 5, 2020

सतर्कता ने चढाई सीढ़ी, लापरवाही पर सांप ने डसा

मुख्य बातें

  • मासिक धर्म स्वच्छता के साथ किया कोविड बचाव के प्रति जागरूक
  • सांप-सीढ़ी के अनूठे खेल ने किया कोविड-19 के प्रति जागरूक
  • सीफार के तत्वावधान में सखी के हनुमान जी पर हुआ आयोजन

झाँसी : आमजन को कोविड-19 के प्रोटोकॉल के प्रति जागरूक करने के लिए स्वास्थ्य विभाग के द्वारा सेंटर फार एडवोकेसी एंड रिसर्च (सीफार) संस्था और रॉबिनहुड आर्मी समूह के सदस्यों के साथ आज सखी के हनुमान जी पर जागरूकता कार्यक्रम किया गया।

जिसमें मंदिर के नजदीक मलिन बस्ती में रहने वाली किशोरियों और महिलाओं को मासिक धर्म स्वच्छता के बारे में बताया गया वही सभी को कोरोना के प्रति जागरूक करने, मास्क की उपयोगिता, शारीरिक दूरी और हाथों को बार-बार धोने के महत्व को बताने के लिए लोकप्रिय खेल सांप-सीढ़ी की मदद ली गई।

जिला महिला अस्पताल की किशोरी काउन्सलर हेमलता ने किशोरियों और महिलाओं को मासिक धर्म के दौरान स्वच्छता और उसका सही प्रबंधन के बारे में बताया। साथ ही किशोरियों को सैनिटरी पैड भी वितरित किए।

स्वास्थ्य शिक्षा अधिकारी डॉ॰ विजयश्री शुक्ला ने कोरोना के समय में हाथों की स्वच्छता के बारें में बताते हुये कहा कि लोगों को कोरोना के प्रति सजग करने के लिए सांप-सीढ़ी का खेल एक नायाब तरीका है।

इस तरह के खेलों के माध्यम से लोगों में कोविड को लेकर जानकारी बढ़ेगी। उन्होंने लोगों को कोरोना से बचाव के उपाय भी बताए।

वही क्वालिटी इम्प्रोवेमेंट सलाहकार डॉ॰ मनीष खरे ने ‘जिनके हाथ धुले धुले उनके चेहरे खिले खिले’ व ‘मास्क का जो हुआ प्रयोग तो थम जाएगा कोरोना रोग’ जैसे संदेशों से लोगों को जागरूक किया।

प्रतियोगिता के पहले राउंड में अभिषेक, श्याम, शिवम व छोटू और दूसरे राउंड में चाहत, प्रियंका, अनन्या और रोशनी शामिल हुईं। कोविड प्रोटोकाल का पालन करने के चलते पहले राउंड में श्याम और दूसरे राउंड में अनन्या को विजयी घोषित किया गया।

इस मौके पर रॉबिनहुड आर्मी से तारिश, समीक्षा, स्तुति, शुभम और अनुज के साथ सीफार संस्था की प्रतिनिधि सोनम राठौर मौजूद रही।

इस तरह से हुआ यह अनूठा खेल

इस अनूठे प्रयोग में सांप-सीढ़ी खेल के नियमों का यथावत रखा गया लेकिन सांप के काटने और सीढ़ी मिलने वाले स्थानों पर कोविड-19 जागरूकता से जुड़़े संदेश डालकर इसे रोचक बनाया गया है।

इस रोचक खेल के माध्यम से लोगों को बताया गया कि कोविड प्रोटोकाल की अनदेखी पर उन्हें किस तरस से सांप ने काटा, और सांप काटने का मतलब है कि संबंधित व्यक्ति घर से बाहर निकलते समय मास्क का प्रयोग नहीं कर रहा था।

इसी तरह बार-बार हाथों को न धुलने, शारीरिक दूरी का ख्याल न रखने और अनावश्यक घर से बाहर निकलने पर भी सांप काटता रहा।

खेल के दौरान जागरूक रहने वाले खिलाड़ियों जैसे कि मास्क को न सिर्फ लगाने बल्कि सही तरीके से लगाने, अपने हाथों को बार-बार सेनिटाइज करने अथवा साबुन और पानी से अच्छी तरह से धुलने और भीड़भाड़ वाली जगहों पर शारीरिक दूरी का ख्याल न रखने वाले प्रतिभागियों को जल्दी-जल्दी सीढ़ी मिलती गई और वह आसानी से अपने लक्ष्य तक पहुंच कर जीत दर्ज करने में सफल रहे।